breaking news

आध्यात्मिक

religious news

शुभ है शनिवार को पड़ रही हनुमान जंयती 2018, इन उपायों से मिलेगा लाभ

चैत्र मास की पूर्णिमा को हनुमान जंयती का उत्‍सव मनाया जाता है। इस बार ये अवसर 31 मार्च 2018 को शनिवार के दिन पड़ रहा है। शनि और हनुमान का सुखद संयोग पंडित दीपक पांडे ने बताया कि इस बार हनुमान जंयती शनिवार को पड़ रही है जो कि अत्‍यंत शुभ संयोग है। क्‍योंकि इस संवत्‍सर में राजा सूर्य हैं और शनि मंत्री। हनुमान जी का सूर्य और शनि दोनों के साथ घनिष्‍ट संबंध है। सूर्य हनुमान के गुरू, श्‍वसुर और गुरू भाई हैं जबकि शनि उनके मित्र और सूर्य पुत्र हैं। साथ ही वायु पुराण भी कहता है कि शनि और हनुमान की घनिष्‍ट मित्रता है। इस वर्ष अत्‍यंत सुंदर योग बन रहा है कि हनुमान जी का जन्‍मोत्‍सव शनिवार के दिन, पूर्णिमा तिथि को, हस्‍त नक्षत्र में मनाया जायेगा। इस दिन पूजन से विशिष्‍ट लाभ भक्‍तों को प्राप्‍त हो सकते हैं।

religious news

ग्रहण से अपनी आंखों का रखें ख्याल, इन 5 टिप्स के साथ

15 फरवरी को साल 2018 का पहला सूर्यग्रहण है. यह ग्रहण 15 फरवरी (गुरुवार) की रात 12.25 मिनट से शुरू होकर 16 फरवरी सुबह 4.18 तक रहेगा 15 फरवरी को साल 2018 का पहला सूर्यग्रहण (Solar Eclipse) है. यह ग्रहण 15 फरवरी (गुरुवार) की रात 12.25 मिनट से शुरू होकर 16 फरवरी सुबह 4.18 तक रहेगा. हालांकि सूतक काल ग्रहण के लगभग 12 घंटे पहले यानी 15 फरवरी सुबह 11.35 पर शुरू हो जाएगा. मान्यता है कि सूतक काल के दौरान पूजा-पाठ या फिर शुभ काम नहीं करना चाहिए. इसके अलावा यह भी माना जाता है कि किसी भी ग्रहण को खुली आंखों से नहीं देखना चाहिए, खासकर सूर्यग्रहण को. इस ग्रहण के दौरान सोलर रेडिएशन से आंखों के नाजुक टिशू डैमेज हो जाते है, जिस वजह से आखों में विजन - इशू यानि देखने में दिक्कत हो सकती है. इसे रेटिनल सनबर्न भी कहते हैं. ये परेशानी कुछ वक्त या फिर हमेशा के लिए भी हो सकती है. यहां जानिए कि इस ग्रहण को देखते वक्त क्या सावधानी बरतनी चाहिए.

religious news

15 फरवरी को पड़ेगा सूर्यग्रहण, क्‍या भारत में दिखाई देगा?

आंशिक चंद्रगहण हर छह महीने में पड़ता है जबकि पूर्ण सूर्यग्रहण एक दुर्लभ खगोलीय घटना है इस साल का पहला सूर्यग्रहण 15 फरवरी को पड़ेगा. इस खगोलीय घटना को दक्षिणी गोलार्द्ध के हिस्‍सों में देखा जा सकेगा. इसके तहत अंटार्कटिका, अटलांटिक महासागर के दक्षिणी हिस्‍सों और साउथ अमेरिका के दक्षिणी हिस्‍से में इसको देखा जा सकेगा. यह आंशिक सूर्यग्रहण होगा जो भारत में नहीं दिखाई देगा. इसके बाद अगला सूर्यग्रहण इसी साल 11 अगस्‍त को देखने को मिलेगा लेकिन उसको भी भारत में नहीं देखा जा सकेगा.

religious news

सूर्य ग्रहण कल, 16 फरवरी के बाद इन 4 राशियों की चमकेगी किस्मत

साल 2018 में पड़ने वाले तीन सूर्य ग्रहणों में पहला 15 फरवरी की मध्य रात्रि शुरू होने जा रहा है। इस ग्रहण का मोक्ष 16 फरवरी को सुबह चार बजे होगा। यह ग्रहण रात में होने के कारण भारतीय उपमाद्वीप में दिखाई नहीं देगा। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार, इसका ग्रहण का राशि प्रकृति और जीवों पर पड़ेगा। विशेष रूप से चार राशि के लोगों के लिए किस्मत बदलने वाला होगा। राशियों पर ग्रहण का असर 16 फरवरी के बाद देखने को मिलेगा।

religious news

शिवरात्रि पर ऐसे करें भोले को खुश, ये हैं पूजा करने के सही तरीके

महाशिवरात्रि 2018: शिवरात्री पर भगत मंदिर में हल्‍दी के जरिए भगवान शिव को टीका लगाते हैं. वैसे भी लगभग हर धार्मिक कार्य में हल्दी का प्रयेाग किया जाता है शिवरात्रि को भगवान शिव की पूजा करने का सबसे बड़ा दिन माना जाता है. कहा जाता है कि इस दिन भोले को खुश कर लिया तो आपके सारे काम सफल होते हैं और सुख समृद्धि आती है. भोले के भक्त शिवरात्रि के दिन कई तरह से भगवान शिव की पूजा अर्चना करते हैं. शिव को खुश करने के लिए शिवालयों में भक्तों का तांता लगा होता है, जो बेल पत्र और जल चढ़ाकर शिव की महिमा गाते हैं. कई लोगों को पता होता है कि शिव को कैसे खुश किया जा सकता है. लेकिन कुछ भक्त ऐसे भी होते हैं जिन्हें शिवरात्रि पर क्या चढ़ाना है और क्या नहीं इसका कोई भी अंदाजा नहीं होता है. हम यहां आपको बता रहे हैं कि शिवरात्रि के दिन कैसे और किन चीजों से भगवान शिव की पूजा करनी चाहिए.

religious news

शिवरात्रि पर भूलकर भी ना करें ये 12 काम!

महाशिवरात्रि हिन्दुओं का एक प्रमुख त्योहार है. यह भगवान शिव के पूजन का सबसे बड़ा पर्व भी है. फाल्गुन कृष्ण चतुर्दशी को महाशिवरात्रि पर्व मनाया जाता है. माना जाता है कि सृष्टि के प्रारंभ में इसी दिन मध्यरात्रि को भगवान शंकर का ब्रह्मा से रुद्र के रूप में अवतरण हुआ था. भगवान शिव जितनी जल्दी प्रसन्न होते हैं, उतनी ही जल्दी नाराज भी जल्दी हो जाते हैं इसलिए शिवरात्रि के दिन और पूजा में कुछ बातों का विशेष ध्यान रखना जरूरी है...