breaking news

आध्यात्मिक

shani-grace

शनिदेव होंगे प्रसन्न,आज सूर्यास्त के समय करें ये तीन उपाय

Devotional: शनिवार को शनिदेव को प्रसन्न करने का सबसे अच्छा दिन माना जाता है। इस दिन किए गए उपाय आपको शनि के दोष से मुक्त कर सकते हैं। आज शाम को किए बहुत असरदार होते है।

coins

सिक्कों का जेब से गिरना होता है शुभ, मिलता है ये लाभ

कई बार आपने देखा होगा कि जब हम तैयार होकर कहीं बाहर जा हरे होते हैं जो जेब में पैसे रखते वक्त कुछ सिक्के गिरते हैं। कई बार कपड़े पहनने के वक्त सिक्के गिरते हैं। ज्योतिष के अनुसार, इस प्रकार से सिक्कों का गिरना शुभ दिनों का संकेत होता है। कई बार आप किसी को पैसे दे रहे होते हैं तो भी हाथ से सिक्के गिर जाते हैं। लेकिन आपको जानकर खुशी होगी कि ऐसा होना आपके लिए लाभकारी होता है। सिक्का गिरे या नोट दोनों की आपके लिए शुभ संकेत लेकर आते हैं।

banana tree

गुरुवार को जरूर करे, केले के पेड़ की पूजा

भगवान सूर्य की कृपा पाने के लिए हर गुरुवार को केले के पेड़ की पूजा की जाती है। इसके अलावा गुरुवार को केले के पेड़ की पूजा करने से बृहस्पति ग्रह मजबूत होता है और ऐसे लोगों की शादी में रुकावटें नहीं आतीं। यही नहीं उसकी सभी मनोकामनाएं भी पूरी हो जाती हैं। वहीं इस दिन केले के पेड़ की पूजा करने से विष्‍णु भगवान प्रसन्‍न होते हैं।

zodiac-signs

ये चार राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली

मेष राशि वाले इनका स्वामी ग्रह मंगल होने के कारण इस राशि के लोग बेहद ऊर्जावान होते हैं। ऐसे लोग जिद्दी भी बेहद होते हैं, इसलिए अगर एक बार किसी चीज को करने की सोच लें तो उसे करके ही मानते हैं। अपने कामों में ये ईमानदार होते हैं, इसलिए जो भी करते हैं पूरी ईमानदारी से। अगर दोस्ती कर लें तो उसे भी पूरी शिद्दत से निभाते हैं। थोड़ी मेहनत में भी ये रलोग तरक्की कर लेते है।

Devotional News

ये उपाय करने से नहीं होगा घर में क्‍लेश

विपदा से बचाव को: यदि कोई स्त्री नियमित रूप से शनिवार को चमेली का दीपक जलाकर सुन्दर काण्ड का पाठ करती है,या किसी योग्य ब्राह्मण से करवाती है तो उसका घर, पति तथा बच्चे किसी भी प्रकार की विपदा से बचे रहते हैं। यदि साप्ताहिक ना हो सके तो भी माह में कम से कम एक बार सुंदर काण्ड घर में अवश्य ही होना चाहिए।

guru nanak dev jayanti 2017

गुरु नानक जयंती आज, इस वजह से मनाया जाता है पर्व

Devotional: गुरु नानक जयंती के दिन गुरु नानक जी का जन्म हुआ था। वे सिख धर्म के पहले गुरु थे। इस जयंती को गुरु पर्व से भी माना जाता है। 15 अप्रैल 1469 को तलवंडी नामक स्थान पर जन्में गुरु नानक का जन्मदिन हिंदू पंचांग के हिसाब से कार्तिक महीने की पूर्णिमा के दिन पड़ता है। गुरु पर्व सिखों का सबसे महत्वपू्र्ण पर्वों में से एक है। आज के दिन गुरु ग्रंथ साहिब में लिखे नानक देव की शिक्षाएं पढ़ी जाती हैं। गुरु नानक जी से संबंधित कुछ प्रमुख गुरुद्वारा साहिब के बारे में बताने जा रहे हैं। जानें: