breaking news

जानिए क्यों मालदीव में ब्रिटिश कालीन मूर्तियों को कुल्हाड़ी से तोड़ा गया

मालदीव के निवर्तमान राष्ट्रपति अब्दुल्ला यामीन द्वारा ब्रिटिश कालीन कुछ मूर्तियों को इस्लाम के लिए अपमानजनक बताया है.

जानिए क्यों मालदीव में ब्रिटिश कालीन मूर्तियों को कुल्हाड़ी से तोड़ा गया
ANIL ARORAANIL ARORA | Updated: Wednesday, September 26, 2018, 02:53

मालदीव के निवर्तमान राष्ट्रपति अब्दुल्ला यामीन द्वारा ब्रिटिश कालीन कुछ मूर्तियों को इस्लाम के लिए अपमानजनक बताए जाने के बाद पुलिस ने कुल्हाड़ी और अन्य उपकरणों की मदद से मंगलवार को उन्हें तोड़ दिया. यामीन ने जुलाई में ही इन मूर्तियों को नष्ट करने का आदेश दिया था लेकिन उसका पालन शुक्रवार को किया गया. जेसन डि‘कैरस टेलर द्वारा बनायी गयी मूर्तियों को मालदीव के एक रिसॉर्ट में आधे डूबे हुए धातु के कंटेनर में रखा गया था. मालदीव का आधिकारिक धर्म इस्लाम मूर्ति निर्माण को प्रतिबंधित करता है. जुलाई में जब इन मूर्तियों को लगाया गया था तभी कुछ धर्मगुरूओं ने इसकी आलोचना की थी, हालांकि इन मूर्तियों का इस्लाम से कोई नाता नहीं है.


यामीन ने जुलाई में कहा था कि ‘कोरालारियम’ सीरिज की इन मूर्तियों के खिलाफ लोगों की भावनाओं को देखते हुए उन्होंने इन्हें नष्ट करने का फैसला लिया है. हालांकि, अभी यह स्पष्ट नहीं है कि जुलाई से अब तक इन मूर्तियों को नष्ट क्यों नहीं किया गया था, और राष्ट्रपति चुनाव में यामीन की हार के तुरंत बाद इन्हें तोड़ा जा रहा है. सरकारी मीडिया की ओर से पोस्ट वीडियो में मूर्तियों को नष्ट करते हुए दिखाया गया है.

सुषमा स्वराज ने सार्क बैठक बीच में ही छोड़ी तो पाक ने किया सीधा हमला

सुषमा स्वराज ने सार्क बैठक बीच में ही छोड़ी तो पाक ने किया सीधा हमला

आदमी के पेट से ऊगा अंजीर का पेड़

आदमी के पेट से ऊगा अंजीर का पेड़

देखिये दुनिया सबसे महंगा जूता कहा लॉन्च हुआ

देखिये दुनिया सबसे महंगा जूता कहा लॉन्च हुआ

पाकिस्तान के पास बांध बनाने तक के पैसे नहीं, सेना और जज जुटा रहे हैं चंदा

पाकिस्तान के पास बांध बनाने तक के पैसे नहीं, सेना और जज जुटा रहे हैं चंदा

कर्जे से उबरने के लिए जानिए क्या-क्या नीलाम कर रहा है पाकिस्तान

कर्जे से उबरने के लिए जानिए क्या-क्या नीलाम कर रहा है पाकिस्तान

देखिये इस किसान के हाथ में जादू उगाई 30 किलो की गोबी

देखिये इस किसान के हाथ में जादू उगाई 30 किलो की गोबी

चीन की जबरदस्ती, कैथोलिक समुदाय चीन के हिसाब से ढलने को मजबूर

चीन की जबरदस्ती, कैथोलिक समुदाय चीन के हिसाब से ढलने को मजबूर

अमेरिका: भारत NSG की सदस्यता का हक़दार लेकिन चीन नहीं चाहता

अमेरिका: भारत NSG की सदस्यता का हक़दार लेकिन चीन नहीं चाहता